Sunday, 3 September 2017

कश्मकश

ये जो गहरी खामोशियाँ हैं
कुछ तुम सी हैं
रातों के कठिन पहर में बेबकियाँ हैं
कुछ कभी न पूरे होने वाले लेकिन अकल्पनीय विचार हैं

औंधे मुँह किये हुए कश्मकश का संज्ञान हैं
तुमसे इतर  कुछ विचार गढ़ें ही नही गए
तुमसे इतर कुछ और सोचा ही नहीं गया

कँपकपी पैदा करती तुम्हारी मुस्कुराहटें हैं
तुम्हारी छुवन की कुछ आहटें हैं
हर पल बहते अश्कों का सूखना है

जिंदगी की इस डगर में अकेले ही जीना है
तुम्हारी कमीं में हर पल मरना है

मोहब्बत के  इसरार की घुटन है
हर कुछ कर के भी कुछ न कर पाने का खेद है



Tuesday, 25 July 2017

मुश्किलों में गिरना ही था

इत्तेफ़ाक़ था या वही होना था
जिंदगी को तेरे इसरार में ही बीतना था।

ख़्वाबों की हकीकत कुछ अलग ही निकली
मुझे तो बस तुम्हारी नज़रों में ही डूबना था।

किसी धुन पर दिल कुछ विचलित सा था
उसी भरम में  डूबना उतराना था

तूफानों के भँवर में फँस के रह गए हैं
तुमसे उस घड़ी में  कुछ तो कहना था

उलझी गिरहों को सुलझाने की ख्वाहिश थी
लेकिन तमन्नाओं को एक दिन बिखरना था

रास्तों की फिकर नही की नज़र मंजिल पर थी
लेकिन रास्तों की मुश्किलों में गिरना ही था।

Thursday, 19 January 2017

सलीका नहीं आता।

तुम्हे जिंदगी जीने का सलीका नहीं आता
रो रो कर उनको भूलने का तरीका नहीं आता।।

मुख़्तलिफ़ थी दुनियां की रवायतें कुछ
ख्वाबीदा थी एक तस्वीर उसमे नूर नहीं आता।।

वो मुन्तज़िर थे झलक को तेरी इक
अब इस तड़प का कोई अंजाम नही आता।।

सवाल -ऐ-वस्ल पर यूँहीं मुकर गए वो
मेरे रक़ीब तुझे कुछ छिपाना नहीं आता।।

मुसलसल चल रहे हैँ अंजान सी दौड़ में
मंजिलो का कोई ठिकाना नजर नहीं आता।।

Thursday, 12 January 2017

हलचल

सुनती रहती हूँ उन हलचलों को अक्सर
कुछ अनकही चीज़ें है 
कुछ उलझे से एहसास हैँ
इक अधूरी सी तमन्ना है

दूर कहीं इक आवाज पुकारती है
पर्वतों क़े सन्नाटे बुलाते हैं
सुन के भी अनसुना कर सकूँ
ये कैसें कर दूँ मै

आहटों के पीछे की कमज़ोरी
तुमसे बहुत कुछ न कह पाने की मजबूरी
विकल हो  रही हैं  ये सर्दियाँ
परवाज़ इन्हें शायद तुम्हारी है।

Wednesday, 30 November 2016

तुम ठहर क्यों नही जाते

तुम ठहर क्यों नहीं जाते।
एक रात तुम बदल क्यों नहीं जाते।।

सुनने की मजबूरी है,
लेकिन शायद कुछ करना भी जरुरी है।
तुम कभी वो सब कह क्यों नहीं जाते,
एक शाम तुम मिल क्यों नहीं पाते।

सच का वास्ता था उम्मीदों की दहलीज़ पर,
तुम्हारा ही अक़्स था उस मुर्दा तस्वीर में।
तुम जीवन क्यों नहीं बन जाते,
एक दुपहरी तुम सो क्यों नही जाते।

रवायतें समाज की थी तकलीफ लेकिन तुमको थी,
जिंदगी से हार जाने की एक खीझ तुममें थी।
तुम क्यों नहीं सब कुछ सुन लेते,
एक जिंदगी क्यों तुम मेरे नाम नही कर जाते।

Sunday, 25 September 2016

क्योंकि मै उम्मीद नही रखती



मै तो लेकर चलना चाहती थी तुमको साथ
लेकिन तुम तो पड़े हो उन्ही रवायतों में
अनसुने विचार प्रकट हो गए थे
लेकिन तुम्हारी हकीकत अभी भी नहीं
अब मै इस समाज से कोई भी चाहत नही करती
क्योंकि वो क्या है न मैं उम्मीद नहीं रखती।

गलत नहीं हो तुम शायद...लेकिन गलत मैं भी तो नहीं
जिंदगी में बस एक तुम्हारी ही कमी तो नहीं
मै सोच के हैरान हूँ कि तुम साधारण ही निकले
सोच थी दुनिया बदलने की और तुम पीछे ही निकले
इसलिए शायद अब मै कोई उम्मीद नहीं रखती

शायद इस बंधन को तुम बंधन समझो....
और क्या बंधन ही है ये...तुम्हारी सोच का बंधन
क्यों मुक्त नही....क्यों उन्ही झंझटों में हो
मै तो दो पल ठहर कर तुम्हे सहारा दे भी दूँ
लेकिन वो क्या है न मैं उम्मीद नहीं रखती

मौसम से नज़ारे एक तरफ तुमसे किनारे एकतरफ
तुम जो तुम हो....शायद वो तुम हो ही नही
परदे के पीछे कुछ और ही था...
और जो मैं देखती रही वो था एक छदम्
मैं तो अब सम्भाल लूँ अपने को
लेकिन तुम्हारा सोच के अब परेशान नहीं होती
क्योंकि मैं अब कोई उम्मीद नहीं रखती...

Sunday, 28 August 2016

कोई खास फ़र्क़ नही आएगा

ये घटायें घनघोर सी छायी हैं
तेरे दिल को क्या मेरी कुछ याद आयी है..
आरजू तुम्हारी सदियों से थी हमको
तुमको क्या कुछ ऐसी उम्मीद नज़र आई है

संग तुम्हारे जो बिता था पल
एक कहानी बन के रग रग में है बस गया
कुछ उम्मीदों की कड़ियाँ थी
और कुछ सपनो की घड़ियाँ थीं

विचित्र स्तिथि में अब हैं हम
क्या तुमको कुछ कहना भी है
इसके आगे क्या तुमको और भी कही तक जाना है
हाँ कह कर तुम सफल मेरा जीवन कर दोगे
न भी कह दोगे तो कोई खास फ़र्क़ न आएगा